top of page
खोज करे

भगवान से क्या सबक है?

. हम ईश्वर और बाइबिल से कई सबक सीख सकते हैं। भगवान इंसानों से बहुत अलग है। परमेश्वर कैसे काम करता है, यह जानने का एकमात्र तरीका बाइबल पढ़ना, प्रकृति को देखना और यह देखना है कि परमेश्वर कैसे जीवनों को बदलता है। बाइबल कहती है कि जो बातें पहले लिखी गईं वे हमारी शिक्षा के लिए हैं। हम बाइबिल के सबक और पुराने और नए नियम की घटनाओं से सीख सकते हैं। ये आज हमारे लिए प्यार भरी चेतावनी और प्रोत्साहन हैं




1 CO 10 11 अब उन पर ये सब बातें दृष्टान्त की नाईं घटीं, और वे हमारी चितावनी के लिथे, जिन पर जगत के अन्त का समय आ पहुंचा है, लिखी गई हैं।


भगवान से क्या सबक है? परमेश्वर क्रोध करने में धीमा है

भगवान क्रोध करने में धीमे हैं यह ऐसी बात नहीं है जिसे ज्यादातर लोग नहीं समझते हैं। जब कोई दुष्ट या स्वार्थी, घमण्डी, या प्रेमहीन होता है, तो परमेश्वर तुरंत तुरंत दंड नहीं देता है। भगवान दयालु हैं और भगवान तुरंत न्याय नहीं करते हैं क्योंकि व्यक्ति पश्चाताप कर सकता है और बदल सकता है। फिर भी लोग यह नहीं जानते कि प्रत्येक व्यक्ति और देश की एक सीमा होती है। ईश्वर की सहनशीलता की भी एक सीमा होती है। जब वह सीमा पार हो जाती है तो परमेश्वर के निर्णय गिर जाते हैं।


EC 8 11 क्योंकि बुरे काम का दण्ड फुर्ती से पूरा नहीं होता, इसलिये मनुष्योंका मन बुराई करने में लगा रहता है।


यह एक चेतावनी है जो हमें सभी को देनी चाहिए। जैसा कि भगवान बहुत दयालु हैं, प्यार और कोमलता से भरे हुए हैं। फिर भी जब हम एक सीमा पार करते हैं, तो निर्णय गिर जाते हैं। बात यह है कि कोई नहीं जानता कि वह सीमा क्या है। नूह के समय में परमेश्वर ने लोगों के पश्चाताप करने, सच्चाई पर विश्वास करने और स्वार्थी, प्यार न करने वाले और घमंडी लोगों पर पड़ने वाले न्याय से बचने के लिए 120 वर्षों तक प्रतीक्षा की। अधिकांश लोगों ने उन चेतावनियों को अस्वीकार कर दिया। भगवान की सहनशीलता को तिरस्कार के साथ व्यवहार किया गया।


जल्द ही ऐसा ही होगा। दुनिया बाइबिल को खारिज करने के लिए मानव उपकरणों का उपयोग करेगी। सत्य एक है और ईश्वर सत्य है। यदि हम सत्य का पालन नहीं करते हैं तो हम एक धोखे का अनुसरण करते हैं। अधिकांश लोग जल्द ही 3 स्वर्गदूतों के संदेश को अस्वीकार कर देंगे जो ग्रह पृथ्वी के लिए अंतिम संदेश है। यहाँ तक कि बहुत से ईसाई भी पशु की छाप प्राप्त करेंगे। क्या कोई व्यक्ति जो पशु की छाप को प्राप्त करता है बचाया जा सकता है ? नहीं, भगवान से क्या सबक है? भगवान दयालु और दयालु हैं।



ईश्वर हमें उनकी इच्छा का पालन करने की शक्ति देता है, इसे विश्वास द्वारा धार्मिकता कहा जाता है। लोगों के खो जाने का एक बड़ा कारण वैधानिकता होगा। पुरुषों और अपने कामों की पूजा करना, यह सोचना कि हम अच्छे हैं जब बाइबल कहती है कि हममें कुछ भी अच्छा नहीं है। यहां हम इस लेख की नींव रख रहे हैं। हमें यह जानने की आवश्यकता है कि परमेश्वर को क्या भाता है यह जानने के लिए कि हम परमेश्वर से कुछ कैसे सीख सकते हैं। भगवान से क्या सबक है? भगवान कानूनीवाद से नफरत करता है।


सच्चे प्यार के बिना खुद को खुश करने के लिए किया गया काम। कोई भी कुछ भी अच्छा नहीं कर सकता है जिसकी पुकार भगवान से आती है। 3 फरिश्तों के संदेश के बाद दुनिया को दिया जाने वाला आखिरी संदेश जोर से रोना है। यह रहस्योद्घाटन 18 में पाया जाता है इसे सच में तीसरे स्वर्गदूत भी कहा जाता है। इसे विश्वास द्वारा धार्मिकता भी कहा जाता है। सारी महिमा परमेश्वर को दी गई है जैसा कि यीशु कहते हैं कि मेरे बिना तुम कुछ नहीं कर सकते।


परमेश्वर क्रोध करने में धीमा है। पवित्र आत्मा हमारे हृदय से बात करता है ताकि हमें पता चले कि कौन सा रास्ता अपनाना है। सच क्या है । फिर यदि हम सत्य से इंकार करते हैं तो हमें परमेश्वर द्वारा बार-बार बुलाया जाएगा। परमेश्वर इस्राएल को क्रोधित करने में बहुत धीमा था। देश मूर्तियों और बुतपरस्त पूजा से भरा हुआ था, फिर भी परमेश्वर इस्राएल से प्रेम करता था और उनकी देखभाल करता था।


लेकिन सच्चाई के लगातार इनकार ने धैर्य और सहनशीलता को खत्म कर दिया। अन्त में परमेश्वर का न्याय गिरा और अश्शूर ने आकर पहले शोमरोन को और फिर यहूदा को बन्धुआई में ले लिया। भगवान से क्या सबक है? यह लैव्यव्यवस्था का 7 गुना अधिक अध्याय है। 2520 समय सीमा। कुछ लोग कहते हैं कि यह भविष्यवाणी है। अध्याय लैव्यव्यवस्था 26 है।




भगवान से क्या सबक है? भगवान प्रत्यक्ष नहीं देखता

हम सीख सकते हैं कि परमेश्वर दिखावे से न्याय नहीं करता। पृथ्वी पर लोग सोचते हैं कि क्योंकि कोई डॉक्टर सूट पहनता है या उपदेशक जैसा दिखता है इसलिए वह ऐसा है। लेकिन भगवान हमें बताते हैं कि हमें ज्ञान की आवश्यकता है जो केवल भगवान से आता है। हमें निष्कर्ष पर पहुंचने में धीमा होना चाहिए। ईश्वर हृदय को देखता है। भगवान से क्या सबक है? फरीसियों ने यीशु के रूप को देखा। उन्होंने आगे नहीं देखा और अंधेरे में गिर गए।


यीशु ने दीन को ठुकराया हुआ स्वीकार किया, उन समाज को पसंद नहीं आया। यह दिखाता है कि परमेश्वर का राज्य इस संसार का नहीं है। यदि हम इस समाज के अनुसार दूसरों का न्याय करते हैं तो हम गलत निष्कर्ष पर पहुंचेंगे क्योंकि इस समाज में चीजों को आंकने का तरीका भगवान की इच्छा के विपरीत है। यदि हम इस समाज में जो स्वीकार किया जाता है उसके अनुसार न्याय करते हैं तो हम दुनिया और उसके उपदेशों का पालन करेंगे।


यूहन्ना 18 35 यीशु ने उत्तर दिया, मेरा राज्य इस जगत का नहीं; यदि मेरा राज्य इस जगत का होता, तो मेरे सेवक लड़ते, कि मैं यहूदियोंके हाथ सौंपा न जाता: परन्तु अब मेरा राज्य यहां का नहीं।

समाज ईमानदार, विनम्र, प्रेम करने वालों को पसंद नहीं करता है। वे घमंडी, स्वार्थी से प्यार करते हैं। हमें चुनने की जरूरत है कि हम किस तरफ हैं। वे सभी जो संसार के मित्र बनना चाहते हैं, परमेश्वर के शत्रु बन जाते हैं। हम एक साथ दोनों तरफ नहीं हो सकते।


LK 16 15 उस ने उन से कहा, तुम वे हो जो मनुष्योंके साम्हने अपके को धर्मी ठहराते हो; परन्तु परमेश्वर तुम्हारे मनों को जानता है;


इस दुनिया में बहुत सी चीजों का बहुत सम्मान किया जाता है। असभ्य और आक्रामक होना अत्यधिक सम्मानित है। जो प्यार नहीं करता उसे स्वीकार किया जाएगा। जो कभी-कभी झूठ बोलता है उसे समाज द्वारा स्वीकार किया जाएगा। कोई व्यक्ति जो सोचता है कि उसकी अपनी राय सत्य है, समाज द्वारा स्वीकार किया जाता है। ये बातें परमेश्वर के लिए घृणित हैं। यीशु ने कहा कि वह विनम्र है और यदि आप स्वर्ग में प्रवेश करना चाहते हैं तो आपको यीशु की तरह बनना होगा।



11 29 मेरा जूआ अपने ऊपर उठा लो, और मुझ से सीखो; क्योंकि मैं नम्र और मन से दीन हूं: और तुम अपने मन में विश्राम पाओगे।

आराम तब होता है जब हम पहले स्थान की तलाश नहीं करते हैं। भगवान से क्या सबक है? विश्राम तब मिलता है जब हम परमेश्वर की महिमा करते हैं और हम हर समय प्रशंसा पाने की कोशिश नहीं करते हैं। यह समझने के लिए एक महान विश्राम है क्योंकि सभी चीजें भगवान से आती हैं। फिर जो कुछ परमेश्वर ने किया है उसका श्रेय लेना झूठ है और जो परमेश्वर का है उसे लूटना है। यह जानना बाकी है कि आशीर्वाद, सफलताएँ जो हमें मिलती हैं, वे सब परमेश्वर की ओर से आती हैं।


भगवान से क्या सबक है? प्रथम स्थान

यीशु के सुसमाचार के ये सभी पाठ बुनियादी प्रतीत होते हैं। लेकिन हम देख सकते हैं कि बहुत से लोग ऐसे उदाहरण नहीं दे रहे हैं कि परमेश्वर कौन है। जब मूल बातें समझ में नहीं आती हैं तो चर्च के लोग उन्नत बाइबिल भविष्यवाणी को प्राप्त करना पसंद करते हैं। पहले स्थान की तलाश नहीं। लोग पहले स्थान की तलाश क्यों करना चाहते हैं। यह कमी की भावना के रूप में आता है। भगवान से क्या सबक है?


जब हम जानते हैं कि परमेश्वर हमें सही समय पर ऊपर उठाएगा, तो हमें अपनी ताकत से लोगों के सामने ऊंचा उठने की जरूरत नहीं है। बाईबल कहती है कि जो लोग अपने आप को ऊँचा उठाना चाहते हैं वे परमेश्वर द्वारा स्वीकृत नहीं हैं।


2 CO 10 17 परन्तु जो घमण्ड करे वह यहोवा पर घमण्ड करे। 18 क्योंकि जो अपनी प्रशंसा करता है वह नहीं, परन्तु जिसकी प्रशंसा यहोवा करता है, वही ग्रहण करता है।



जब हम स्वयं को आज्ञा देते हैं या जब हम मनुष्यों के सामने महिमा पाना चाहते हैं। या जब हम अपने लिए लोगों की स्वीकृति चाहते हैं तब भी हम यह नहीं समझ पाए हैं कि सभी चीजें परमेश्वर की ओर से आती हैं। यह विश्वास विश्वास से धार्मिकता की तरह है। बहुत से लोग कहते हैं कि हम अनुग्रह से बचाए गए हैं। लेकिन वे भ्रमित हैं और गहरे दिल में अभी भी विश्वास है कि वे चीजों को करने से बच गए हैं।


भगवान से क्या सबक है? बहुत से लोग उस पद को जानते हैं जो कहता है कि सब कुछ परमेश्वर की ओर से आता है। फिर भी गहरे में वे मानते हैं कि वे परमेश्वर के बिना काम कर सकते हैं। उनका मानना है कि वे भगवान के बिना धर्मी हैं।


यूहन्ना 15 5 5 मैं दाखलता हूं, तुम डालियां हो: जो मुझ में बना रहता है, और मैं उस में बहुत फल लाता हूं, क्योंकि मुझ से अलग होकर तुम कुछ नहीं कर सकते।

लेकिन क्योंकि समाज ऐसा नहीं मानता। समाज का मानना है कि इंसान ने सब कुछ किया, फिर नाम मात्र का ईसाई बाइबिल पढ़ता है, लेकिन दुनिया के पीछे चलता है।


निर्गमन 23 2 बुराई करने के लिये बहुतोंके पीछे न हो लेना; और न तू किसी मुकद्दमे में बोलना, जिस से बहुतोंके पीछे मुकद्दमा लड़ना पड़े।


पहली जगह जैसा कुछ नहीं है। जैसा कि हम सभी भगवान द्वारा बनाए गए हैं। भगवान ने लोगों को अलग-अलग उपहार दिए। सभी उपहार भगवान से आते हैं और महिमा उसी को जाती है। हम किसी को नहीं जानते। शायद उनके पास सुप्त उपहार हैं। हम यह नहीं आंक सकते कि वे जीवन में कहां हैं। क्योंकि जो व्यक्ति सामाजिक रूप से इतना मजबूत है, उसे यह नहीं आंकना चाहिए कि वह अधिक एकांत में है। वास्तव में यीशु का पसंदीदा प्रेरित जॉन था जो अधिक शांत और विनम्र था। भगवान से क्या सबक है?


हमें दूसरों को अपने से बेहतर देखने की जरूरत है। यीशु ने कहा कि लेने से देना अच्छा है। बात करने से ज्यादा सुनना आशीर्वाद है। लेने से देना अच्छा है। लोगों को प्यार चाहिए, लोगों को सुनने की जरूरत है। ये सिद्धांत जो हमने यहां निर्धारित किए हैं वे यीशु के पाठ हैं जिन्हें हम सुसमाचारों से सीखते हैं। इस तरह से हम जानते हैं कि परमेश्वर किससे प्रेम करता है और परमेश्वर कौन है। भगवान का राज्य इतना अलग है कि ये सांसारिक राज्य।


AC 20 35 मैं ने तुम्हें सब बातें बता दीं, कि इस प्रकार परिश्रम करके निर्बलोंको सम्भालना, और प्रभु यीशु की बातें स्मरण रखना, कि उस ने कहा, लेने से देना धन्य है।


भगवान से क्या सबक है? भगवान आपसे प्यार करता है

परमेश्वर आपको अपने प्राणों से भी अधिक प्रेम करता है। परन्तु परमेश्वर उसे स्वर्ग में नहीं जाने देगा जो यीशु के समान नहीं है। इंसानों पर शैतान की छाप है। यीशु के आने तक प्रतीक्षा समय हमारे लिए यीशु की तरह चरित्र के उन दुष्ट लक्षणों को दूर करने के लिए बहन है। अभिमान, स्वार्थ, बेईमानी, प्रेमहीन, निर्दयी आत्मा। दूसरों की निंदा करना। इन सभी चीजों को हटाने की आवश्यकता है क्योंकि यीशु ने कहा कि हमें पापों पर विजय प्राप्त करने की आवश्यकता है।


HE 12 14 14 सब के साथ मेल मिलाप रखने, और उस पवित्रता के खोजी बने रहो जिसके बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा।

परमेश्वर आपसे प्यार करता है वास्तव में यीशु ने आपसे हमेशा के लिए अलग होने की बजाय मरना पसंद किया। यही हुआ होगा। यदि यीशु क्रूस पर नहीं मरे होते, तो परमेश्वर को आपसे हमेशा के लिए अलग होना पड़ता। एक पाप के लिए हम मरने के लायक हैं

RO 6 23 क्योंकि पाप की मजदूरी तो मृत्यु है; परन्तु परमेश्वर का वरदान हमारे प्रभु यीशु मसीह के द्वारा अनन्त जीवन है।


जब तक यीशु ने वह दण्ड न लिया होता जिसके तुम पात्र हो, तब तक तुम्हें हमेशा के लिए नष्ट होना पड़ता। यीशु आपसे हमेशा के लिए अलग हो जाते। भगवान ने आपको उसके साथ समय बिताने के लिए बनाया है। वास्तव में परमेश्वर ने आपको क्यों बनाया इसका एकमात्र कारण उससे प्रेम करना और उससे प्रेम पाना है।


भगवान से क्या सबक है? भगवान इस प्यारे रिश्ते को जल्द ही बहाल करेंगे। यीशु हर समय आपके बारे में सोचता है। यीशु आपके जीवन का विवरण जानता है। यीशु को तब बुलाया जा सकता है जब आपको उसकी आवश्यकता हो। यीशु हमेशा आपकी जरूरतों को सुनेगा।


1 PE 5 7 7 अपक्की सारी चिन्ता उसी पर डाल दो; क्योंकि वह तुम्हारी परवाह करता है।

यीशु आपको आपकी परेशानियों से छुटकारा दिलाएगा।

PS 50 15 और संकट के दिन मुझे पुकार; मैं तुझे छुड़ाऊंगा, और तू मेरी महिमा करने पाएगा।

आपको प्रार्थना में लगे रहने की आवश्यकता है परमेश्वर हमारे विश्वास की परीक्षा ले सकता है।

LK 18 और उस ने इस के विषय में कि नित्य प्रार्यना करना और हियाव न छोड़ना चाहिए उन से यह दृष्टान्त कहा।


2 उस नगर में एक न्यायी रहता था, जो न परमेश्वर से डरता था और न किसी मनुष्य की ओर देखता था। 3 और उस नगर में एक विधवा रहती यी; और वह उसके पास आकर कहने लगी, कि मुझ से मेरी मुद्दई का पलटा ले। 4 उस ने कुछ देर तो न माना, परन्तु पीछे अपने मन में कहने लगा, चाहे मैं न तो परमेश्वर से डरता हूं, और न मनुष्य की कुछ चिन्ता करता हूं;


5 तौभी वह विधवा मुझ को सताएगी, इसलिथे मैं उसका पलटा लूंगा, कहीं ऐसा न हो कि वह बार बार आकर मुझे उकता दे। 6 फिर यहोवा ने कहा, सुन ले वह अन्यायी न्यायी क्या कहता है। 7 और क्या परमेश्वर अपके चुने हुए लोगोंका पलटा न लेगा, जो रात दिन उस की दुहाई देते रहते हैं, चाहे वह उन की सहता रहे? 8 मैं तुम से कहता हूं, कि वह फुर्ती से उनका पलटा लेगा। तौभी मनुष्य का पुत्र जब आएगा, तो क्या वह पृथ्वी पर विश्वास पाएगा?


विश्वास करें कि जब आप प्रार्थना करते हैं तो यीशु आपकी सुनता है। आपकी प्रार्थनाओं का उत्तर दिया जा सकता है यदि आपको विश्वास है कि आपने इसे प्राप्त कर लिया है। आप भगवान से क्या चाहते हैं? क्या आप मानते हैं कि आपके जीवन में पहले से ही वे चीजें हैं? आप जिन चीजों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं उनके साथ स्वयं की कल्पना करें और वे सच हो जाएंगी।

MK 11 2424 इसलिये मैं तुम से कहता हूं, कि जो कुछ तुम प्रार्यना करके चाहो तो प्रतीति कर लो कि तुम्हें मिल गया, और तुम्हारे लिथे हो जाएगा।

मेरे दोस्त यीशु के साथ समय बिताएं। वह आपके साथ समय बिताना पसंद करता है यही कारण है कि भगवान ने आपको बनाया है अपनी सभी जरूरतों और इच्छाओं को भगवान को बताएं। यीशु आपका सबसे अच्छा दोस्त है। यीशु आपको उस सब से बढ़कर आशीष दे सकता है जो आप मांग या सोच सकते हैं। क्या आपने पहले यीशु को अपने हृदय में स्वीकार किया है? ई पिता भगवान मेरे पापों को क्षमा करने के बाद दोहराएं, मेरे दिल में आओ। मुझे अपनी धार्मिकता दें, चंगा करें और मुझे यीशु के नाम पर आशीष दें आमीन। EARTHLASTDAY.COM




4 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

Comments


CHURCH FUEL BANNER.png
PAYPAL DONATE.jpg
BEST BIBLE BOOKSTORE.png
DOWNLOAD E BOOK 2.png
bottom of page