top of page
खोज करे

आज फरीसी कौन हैं?

फरीसी कौन थे? फरीसी वे लोग थे जो अपने आप को अच्छा समझते थे जबकि वे नहीं थे। फरीसी वे लोग थे जो अपने स्वयं के जीवन को देखने के बजाय दूसरों को बहुत आँकते थे। फरीसियों के सबक से हम क्या सीख सकते हैं? आज फरीसी कौन हैं?




आज फरीसी कौन हैं? विधिपरायणता

वैधानिकता एक बड़ा मुद्दा है? पॉल और जीसस कहते हैं कि जो कानूनविद हैं वे स्वर्ग में प्रवेश नहीं कर सकते। एक कानूनविद नियमों का पालन करता है लेकिन सोचता है कि उन नियमों का पालन करने से वह एक अच्छा इंसान बन जाएगा। एक विधिवादी सोचता है कि आवश्यकताओं का पालन करने से उसका हृदय बदल जाएगा और वह उन नियमों के कारण स्वर्ग में चला जाएगा। एक कानूनविद् लोगों से घृणा कर सकता है, स्वार्थी हो सकता है, अभिमानी हो सकता है फिर भी नियमों का पालन कर सकता है।


हृदय नहीं बदला है और बाहरी निरीक्षण परमेश्वर के लिए इस व्यक्ति को स्वर्ग में प्रवेश कराने के लिए पर्याप्त नहीं है। जैसा कि ई जानते हैं कि जब यीशु वापस आएंगे तो शरीर एक परिपूर्ण शरीर में बदल जाएगा। लेकिन जब यीशु बाइबिल में कहीं नहीं लौटता है तो क्या यह कहता है कि यीशु बुरी आदतों और चरित्र के बुरे लक्षणों को दूर करने के लिए स्वर्ग जाने के लिए मजबूर करेगा। अगर हम उसे नहीं करने देते हैं तो भगवान हमारे अपने जीवन से बुराई को दूर नहीं कर सकते हैं।


आज फरीसी कौन हैं? यीशु का क्रूस

विधिवाद क्या है? वैधानिकता वह है जो सोचता है कि वह गहराई से अच्छा है। एक कानूनविद सोचता है कि उसके काम उसे बचाने और स्वर्ग जाने के लिए काफी अच्छे होंगे। एक कानूनविद यीशु के क्रूस को बिना किसी प्रभाव के बनाता है। जैसे कि हम कर्मों से अपने आप को बचा सकते थे, यीशु क्रूस पर क्यों मरे? यदि हम स्वयं को बचा सकते तो यीशु को क्रूस पर मरने की कोई आवश्यकता नहीं होगी।




हम दोनों अपने आप को नहीं बचा सकते हैं और हमें बचाने के लिए यीशु को हमारे पापों के लिए मरने की आवश्यकता है। ओन कर्मों का धर्म है, दूसरा अनुग्रह का धर्म है। दोनों एक ही समय में सच नहीं हो सकते। क्योंकि मनुष्य अपने आप को बचाने में लाचार है तो यीशु उसके पापों को क्षमा करने के लिए क्रूस पर मरा। विश्वास करना ही हमारा काम है। यहाँ तक कि हमारे काम भी यीशु हमारे द्वारा करते हैं। बाईबल कहती है कि परमेश्वर ने हमारे सब कामों को पहले से तैयार किया। परमेश्वर हमारे द्वारा काम करता है यहां तक कि काम भी विश्वास से होते हैं।


यीशु कहते हैं कि जब तक यीशु हमें नहीं धोते, हमारे पास राज्य का कोई हिस्सा नहीं है। यहां बहुत से लोग काम कर सकते हैं लेकिन जब तक वे उद्धार के लिए यीशु पर विश्वास नहीं करेंगे तब तक उनके काम उन्हें स्वर्ग में प्रवेश नहीं दिला पाएंगे।


यूहन्ना 13 8 पतरस ने उस से कहा, तू मेरे पांव कभी न धोने पाएगा। यीशु ने उस को उत्तर दिया, कि यदि मैं तुझे न धोऊं, तो मेरे साथ तेरा कुछ भी साझा नहीं।

RO 10 9 9 कि यदि तू अपके मुंह से यीशु को प्रभु जानकर अंगीकार करे, और अपके मन से विश्वास करे, कि परमेश्वर ने उसे मरे हुओं में से जिलाया, तो तू निश्चय उद्धार पाएगा।

इसका मतलब यह नहीं है कि हम अपनी पापी स्थिति से बच जाएंगे। यह एक और त्रुटि है जिसे लोग मानते हैं। कि जैसे ही वे विश्वास करेंगे वे स्वर्ग में होंगे। लेकिन हमें पवित्र होने की जरूरत है। हमें पाप से शुद्ध होने की आवश्यकता है जो घमण्ड, स्वार्थ, प्रेमहीन, निर्दयी आत्मा है। बेईमानी, अविश्वास और विधिवाद भी एक पाप है। आज फरीसी कौन हैं? वे सभी जो काम करते हैं और विश्वास नहीं करते, या अपने आप को बचाने के लिए काम करते हैं और सोचते हैं कि वे अच्छे व्यक्ति हैं।


आज फरीसी कौन हैं? सहेजा गया वाई भी काम करता है

उस पद के बारे में क्या जो कहता है कि कर्मों से भी हमारा उद्धार होता है? क्या बाइबिल खुद का खंडन करती है? नहीं भगवान स्पष्ट विरोधाभास क्यों डालता है ? यह इसलिए है ताकि हम परमेश्वर के वचन में गहराई से खोज कर सकें और वास्तविक अर्थ पा सकें। हम सतही पाठक नहीं हो सकते। यदि कोई व्यक्ति ईश्वर में विश्वास करता है तो क्या वह दूसरों के लिए कार्य करेगा और ईश्वर से प्रेम भी करेगा ? हाँ । फिर इस प्रकार कर्मों से उनका उद्धार होता है।



इस वचन का अर्थ यह नहीं है कि हम कर्मों के द्वारा बचाए गए हैं। यह अध्याय कहता है कि की आस्था

इब्राहीम उसका काम था। इब्राहीम ने विश्वास किया और यह उसके लिये धार्मिकता गिना गया।

JA 2 14 हे मेरे भाइयों, यदि कोई कहे कि मुझे विश्वास है, और वह कर्म न करता हो, तो उस से क्या लाभ? क्या विश्वास उसे बचा सकता है? 15 यदि कोई भाई वा बहिन नंगे नंगे हों, और उन्हें प्रतिदिन भोजन की घटी हो, 16 और तुम में से कोई उन से कहे, कुशल से चले जाओ, गरम रहो और तृप्‍त रहो; तौभी तुम उन्हें वह वस्तु न दो जो उसके शरीर के लिथे आवश्यक है; इससे क्या लाभ होता है? 17 वैसे ही विश्वास भी, यदि कर्म सहित न हो, तो अकेला होकर मरा हुआ है।


यह वचन कहता है कि जो विश्वास करता है उसके काम होंगे। अगर कोई कहता है कि मैं तुमसे प्यार करता हूं और उसके लिए कुछ नहीं करता तो उसका पेशा मर चुका है। इसका मतलब यह नहीं है कि चीजों को करने से कोई बच जाता है। जैसा कि कोई काम कर सकता है और प्यार नहीं कर सकता। कोई भगवान का पालन कर सकता है और भगवान से प्यार नहीं कर सकता। काम का मतलब यह नहीं है कि वह व्यक्ति बच गया है। लेकिन हम कामों से नहीं बचते हैं। याकूब 2 का यह अध्याय कहता है कि यदि हमें परमेश्वर में विश्वास है तो हम परमेश्वर और अन्य लोगों से प्रेम करेंगे।


यह विश्वास ईश्वर और दूसरों के लिए कार्यों में स्वत: प्रकट होगा। इसका मतलब यह नहीं है कि हम कामों से बच जाते हैं। इसका मतलब है कि हम विश्वास नहीं कर सकते हैं और इसके अनुरूप काम नहीं कर सकते हैं जो यह साबित करता है कि हमें ईश्वर में विश्वास है।


आज फरीसी कौन हैं? विश्वास द्वारा बचाया गया

यहां केवल विश्वास के द्वारा बचाए जाने के बारे में कुछ पद दिए गए हैं। मुझे यह पसंद है जो कहता है कि अगर हम कर्मों से बचाए जाते हैं, तो यह विश्वास नहीं है। यदि हम विश्वास के द्वारा बचाए गए हैं, तो हम कर्मों के द्वारा नहीं बचाए गए हैं। यह दोनों एक साथ नहीं हो सकते।

RO 11 6 और यदि अनुग्रह ही से होता है, तो फिर कर्म से नहीं होता, नहीं तो अनुग्रह फिर अनुग्रह नहीं रहा। लेकिन अगर यह कर्मों का है, तो यह और अधिक अनुग्रह नहीं है: अन्यथा काम अब और काम नहीं है।


हम देखते हैं कि बाइबिल में विरोधाभास नहीं हो सकता। जब आप रुकने के संकेत पर होते हैं, या तो बत्ती लाल होती है या हरी बत्ती होती है। यह दोनों नहीं हो सकता। या तो आप कुत्ते हैं या बिल्ली। यहाँ भी हम अनुग्रह से नहीं बचाए जा सकते हैं और एक ही समय में काम करते हैं। यह कहने जैसा है कि चाबी को प्रज्वलन में रखो और कार शुरू हो जाएगी। कार का स्टेटिंग कार के प्रज्वलन में चाबी डालने का परिणाम है।


GA 3 11 परन्तु यह प्रगट है, कि कोई मनुष्य व्यवस्था के द्वारा परमेश्वर के यहां धर्मी नहीं ठहरता, क्योंकि धर्मी जन विश्वास से जीवित रहेगा। यह पद इस बात की भी पुष्टि करता है कि हम कर्मों से नहीं बचाए जा सकते क्योंकि इसका अर्थ यह हो सकता है कि हम देवता हैं। अगर हम खुद को बचा सकते हैं तो भगवान की कोई जरूरत नहीं होगी। अधिकांश बुतपरस्त धर्मों का मानना है कि वे अपने कार्यों से बचाए जाते हैं। पुरुष उनकी पूजा के केंद्र में हैं और यह यीशु के क्रूस और बलिदान के प्रति घृणा है। मनुष्य अपने पापों को क्षमा करने में लाचार है, अपने दोषों का प्रायश्चित करने में लाचार है, अपने हृदय को बदलने में लाचार है।



आज फरीसी कौन हैं? हम किसकी आज्ञा मानते हैं?

वास्तव में यह पूरा मसला है, क्योंकि विधिवादी और वे जो विश्वास के द्वारा बचाए जाते हैं, दोनों कार्य करते हैं। फर्क यह है कि वे काम क्यों करते हैं? मकसद क्या है? कानूनविद खुद को बचाने और भगवान की स्वीकृति प्राप्त करने के लिए काम करते हैं। जो लोग विश्वास से बचाए जाते हैं वे सिर्फ इसलिए काम करते हैं क्योंकि वे भगवान और अपने पड़ोसी से प्यार करते हैं। आज फरीसी कौन हैं? वे जो स्वर्ग पाने के लिए काम करते हैं कोई रास्ता नहीं है कि हम खुद स्वर्ग के लिए काम कर सकें।


लेकिन अगर मकसद भगवान के प्यार और अच्छाई के लिए आभारी होना है, तो हम खुद को बचाने के लिए नहीं बल्कि इसलिए काम करेंगे क्योंकि हम भगवान से प्यार करते हैं। यही कारण है कि बाइबल कहती है कि हमारे सर्वोत्तम कार्य मैले चिथड़ों के समान हैं। जैसा कि वे अक्सर स्वयं को लाभ पहुंचाने, या दूसरों को दिखाने के लिए काम करने, या लोगों से वापस प्राप्त करने के लिए काम करने के स्वार्थ और गुप्त उद्देश्यों से भरे होते हैं।


IS 64 6 6 परन्तु हम सब के सब अशुद्ध वस्तु के समान हैं, और हमारे धर्म के काम सब के सब मैले चिथड़ोंके समान हैं; और हम सब पत्ते की तरह मुरझा जाते हैं; और हमारे अधर्म के कामों ने हमें वायु के समान उड़ा लिया है।

समस्या यह है कि कई ईसाई कहते हैं कि मैं अनुग्रह से बच गया हूं, फिर भी उनके भाषण के दूसरे भाग में वे कहेंगे कि वे ऐसा या वह करने से बच गए हैं। अधिकांश लोग इस विषय पर भ्रमित हैं जैसे बाइबिल में कई अन्य विषयों के लिए।


आज फरीसी कौन हैं? विश्वास से धार्मिकता क्या है?

विश्वास के द्वारा धार्मिकता तभी आ सकती है जब किसी को यह एहसास हो जाए कि उनमें कुछ भी अच्छा नहीं है। जब तक आप यह नहीं पहचानते और महसूस नहीं करते कि मुझमें और आप में कुछ भी अच्छा नहीं है, तब तक आप कृपा पक्ष में नहीं हो सकते। जहां तक आप सोचते हैं कि आप एक अच्छे व्यक्ति हैं, आप कानूनविद बने रहेंगे। फरीसी अपने आप को बहुत ऊंचा समझते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अपनी स्थिति नहीं देखते हैं। वे खुद नहीं जानते। जब लोग प्रार्थना करने के लिए मंदिर में दाखिल हुए तो उसने खुद को अच्छा दिखाने के लिए भगवान को अपने सभी काम सौंप दिए। बाईबल कहती है कि जिसने अपने आप को पापी देखा वह धर्मी ठहरा।


LK 18 9 और उस ने कितनोंसे जो अपके ऊपर भरोसा रखते थे, कि हम धर्मी हैं, और औरोंको तुच्छ जानते थे, यह दृष्टान्त कहा।

यीशु ने इस विषय पर बहुत बार बात की। वास्तव में जब हम सुसमाचारों को पढ़ते हैं तो मैथ्यू से लेकर जॉन तक के अधिकांश विषय और अध्याय फरीसियों के विधिवाद और यीशु के बारे में बताते हैं कि परमेश्वर के राज्य के बारे में सोचने का तरीका क्या है। यीशु जानता था कि बहुत से लोग अपने आप को अच्छा समझते हैं। यह सभी धर्मों में होता है और यहां तक कि नास्तिक भी कानूनविद हो सकते हैं। यह दुनिया के लिए एक बुरा सपना है क्योंकि कानूनविद दूसरों के लिए अभिशाप हैं। वे अपनी स्थिति को देखे बिना लगातार दूसरों का न्याय करते हैं। और वे अक्सर किए जाने वाले बहुत से पापों के प्रति अंधे होते हैं।



10 दो मनुष्य मन्दिर में प्रार्थना करने गए; एक फरीसी और दूसरा चुंगी लेनेवाला। 11 फरीसी खड़ा होकर अपके मन में यों प्रार्यना करने लगा, कि हे परमेश्वर, मैं तेरा धन्यवाद करता हूं, कि मैं और मनुष्योंके समान अन्धेर करनेवाला, अन्यायी, और व्यभिचारी नहीं हूं, और न इस चुंगी लेनेवाले के समान हूं। 12 मैं सप्ताह में दो बार उपवास करता हूं, और जो कुछ मेरे पास है उसका दसवां अंश देता हूं।


यहाँ फरीसी सीधे भगवान से कहता है देखो भगवान मैं एक अच्छा इंसान हूँ। मैं किसी को भगवान से यह कहने की कल्पना नहीं कर सकता कि मैं एक अच्छा इंसान हूं। अहंकारी व्यक्ति अपनी दशा से भी अन्धा होता है। इसमें हम यह भी देख सकते हैं कि वे परमेश्वर को नहीं जानते। वे सोचते हैं कि भगवान को अपने जैसा अभिमान है। ईश्वर के फरीसी होने को कोई स्वीकार नहीं कर सकता। वास्तव में पॉल कहते हैं कि फरीसी भगवान से अलग हो गए हैं।

GA 5 2 देखो, मैं पौलुस तुम से कहता हूं, कि यदि तुम खतना कराओगे, तो मसीह से तुम्हें कुछ लाभ न होगा।

3 क्योंकि मैं हर एक खतना करानेवाले को फिर चिता देता हूं, कि सारी व्यवस्या के मानने का कर्जदार है।

4 तुम में से जो व्यवस्या के द्वारा धर्मी ठहरे, उन में से मसीह का तुम्हारे लिथे कुछ काम न रहा; तुम अनुग्रह से गिर गए हो। 5 क्योंकि हम आत्मा के द्वारा विश्वास से धामिर्कता की आशा की बाट जोहते हैं।

पॉल के कठोर शब्द जो कहते हैं कि मसीह किसी को भी लाभ नहीं पहुंचाता है जो सोचते हैं कि वे अच्छे हैं और कर्मों से बचाए गए हैं।


जो लोग सोचते हैं कि वे कर्मों के द्वारा बचाए गए हैं, उन पर पूरी व्यवस्था का पालन करने के लिए परमेश्वर का ऋण है। जीसस उनके लिए बिल्कुल बेकार हो गए और उनकी सूली पर मृत्यु भी बेकार हो गई। जैसा कि वे मानते हैं कि उनका काम ही उन्हें और उनकी अपनी अच्छाई को बचाता है। जब


हमारी खुद की अच्छाई को झूठ और अस्तित्वहीन के रूप में देखा जाता है तभी हम यीशु में आशा रख सकते हैं। पॉल का कहना है कि वे अनुग्रह से गिर गए हैं। बाबुल के बारे में भी यही शब्द बोले जाते हैं। बाबुल सच्चाई से गिर गया है। यहाँ सभी ईसाई जो मानते हैं कि वे कर्मों से बच गए हैं, अनुग्रह से गिर गए हैं। आइए हम लूका 18 के दृष्टान्त को जारी रखें

LK 18 13 और चुंगी लेनेवाले ने दूर खड़े होकर अपक्की आंखे आकाश की ओर उठाना न चाहा, वरन अपनी छाती पीट-पीटकर कहा, हे परमेश्वर मुझ पापी पर दया कर। 14 मैं तुम से कहता हूं, कि वह दूसरा पुरूष नहीं, परन्तु यही मनुष्य धर्मी ठहरकर अपके घर गया; क्योंकि जो कोई अपके आप को बड़ा बनाएगा, वह नीचा किया जाएगा; और जो अपने आप को छोटा बनाएगा, वह ऊंचा किया जाएगा। 15 और लोग अपके बच्चोंको भी उसके पास ले आए, कि वह उन पर हाथ रखे, परन्तु उसके चेलोंने यह देखकर उन्हें डांटा।



केवल वे जो देखते और जानते हैं कि हममें कुछ भी अच्छा नहीं है, आशा रख सकते हैं। फिर हमें प्रतिदिन परमेश्वर से विश्वास के द्वारा उसकी धार्मिकता के लिए प्रार्थना करने की आवश्यकता है। परमेश्वर की यह शक्ति ही किसी को हमारे द्वारा परमेश्वर से कार्य करवा सकती है। क्या आपने पहले यीशु को अपने हृदय में स्वीकार किया है? मेरे बाद दोहराओ पिता परमेश्वर मेरे पापों को क्षमा करो, मेरे हृदय में आओ। मुझे अपनी धार्मिकता का वस्त्र दो। मुझे चंगा करो और आशीर्वाद दो। यीशु के नाम में प्रतिदिन आपके साथ चलने में मेरी मदद करें आमीन। EARTHLASTDAY.COM


5 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

コメント


CHURCH FUEL BANNER.png
PAYPAL DONATE.jpg
BEST BIBLE BOOKSTORE.png
DOWNLOAD E BOOK 2.png
bottom of page